भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

छोटो मोटो मेहन्दी को झाड़ / पँवारी

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 15:13, 20 मार्च 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |भाषा=पँवारी |रचनाकार=अज्ञात |संग्रह= }} {{KKCat...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पँवारी लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

छोटो मोटो मेहन्दी को झाड़
वहाँ ते समदिन थाड़ी।।
मार्यो मार्यो मुन्ना राय
गेन्द हिवड़ बीच जाय लगी।।
खोटो रूपैया दारी हाथ
दगा रे दियो भारी
दगा रे दियो भारी।।
अंगिया हय कमर कटार
जोबर दारी को भारी।।
लहंगा हाय लाल गुलाल
सरस रंग लाल साड़ी।।