भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

छोड़ो नऽ मैया मऽरीऽ घोड़ा की बागऽ ओ / पँवारी

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 11:41, 20 मार्च 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |भाषा=पँवारी |रचनाकार=अज्ञात |संग्रह= }} {{KKCat...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पँवारी लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

छोड़ो नऽ मैया मऽरीऽ घोड़ा की बागऽ ओ
लगना की बीरिया मऽरीऽ ढय चली।।
छोटी सी लाह मात पाय पड़ाहू ओ
तोरा दूध की निरागत करऽ देहूँ।।
छोड़ो नऽ बहना मऽरीऽ घोड़ा की बागऽ ओ
लगना की बीरिया मऽरीऽ ढ़य चली
छोटी सी लाहू बहना पाँय पड़ाहू ओ
तोरी राखी की निरागत करऽ देहूँ।।