भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"जंगल जागा / रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार= रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' |संग...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

08:07, 1 नवम्बर 2019 के समय का अवतरण

68
जंगल जागा
मेपल -पतझर
या लगी कहीं आग
भड़के शोले
दहक उठे पात
क्या खूब है यौवन !
69
ओ मनमीत!
गले से लग जाओ
अब दूर न जाओ,
कहाँ खो गए
तुम हो गए मौन
अब मेरा है कौन !
70
जले हैं पंख
टूट गए हैं डैने
ऊँचे शैल शिखर,
बड़ी चुनौती
आँधी चली हिमानी
जाना है कोसों दूर ।
-0-