भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

"जय-पराजय-खुशी और ग़म / शिव ओम अम्बर" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=शिव ओम अम्बर |अनुवादक= |संग्रह= }} <poem>...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

14:26, 13 अप्रैल 2016 के समय का अवतरण

जय-पराजय-खुशी और ग़म
दृष्टिभ्रम दृष्टिभ्रम दृष्टिभ्रम

बिजलियो, आशियाँ पे मेरे,
हर तरफ़ दर्ज है स्वागतम्

वेदनाओं की वेदत्रयी,
ये जुबाँ ये ज़िगर ये क़लम।