भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जसोदा तेरे लाला ने माटी खाई / ब्रजभाषा

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 03:38, 27 नवम्बर 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |रचनाकार=अज्ञात }} {{KKLokGeetBhaashaSoochi |भाषा=ब्रजभाष...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

जसोदा सुन माई, तेरे लाला ने माटी खाई॥ टेक
अद्भुत खेल सखन संग खैल्यौ, इतनौ सौ माटी को डेल्यौ
तुरत श्याम ने मुख से मेल्यौ, जानै गटक-गटक गटकाई॥ 1॥
माखन कू कबहूँ ना नाटी, क्यों लाला तैनें खाई माटी
धमकावै जसुदा लै साँटी, जाय नेंक दया नहिं आई॥ 2॥
ऐसौ स्वाद नांय माखन में, नाँय मिश्री मेवा दाखन में
जो रस ब्रजरजके चाखन में, जानें भुक्ति को मुक्ति कराई॥ 3॥
मुख के माँहि आँगुरी मेली, निकर परी माँटी की डेली
भीर भई सखियन की भेली, जाय देखें लोग लुगाई॥ 4॥
मोहन कौ म्हौड़ौ फरवायौ, तीन लोग वैभव दरसायौ
जब विश्वास जसोदाए आयौ, ये तो पूरन ब्रह्म कन्हाई॥ 5॥
जा रजकू सुरनर मुनि तरसें, धन्यभाग्य जो नितप्रति परसैं,
जिनकी लगन लगी होय हरसैं, कहें ‘घासीराम’ सुनाई॥ 6॥