भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जस का तस / ओम प्रभाकर

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 10:45, 3 मई 2011 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

शाख़-शाख़ बुलबुल
लिखती है
पत्ता-पत्ता गुल
लिखती है ।

बेटी माँ से
जो पढ़ती है
बच्चों में वो कुल लिखती है ।

सहर लिखे
उसकी पेशानी
शब उसके काकुल लिखती है ।

हर लम्हे वो
फ़लक वक़्त की
जस का तस बिल्कुल लिखती है ।

जब लिखती है
हवा इबारत
पानी पर ढुलमुल लिखती है ।