भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जहाजण / रूपसिंह राजपुरी

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 09:43, 18 अक्टूबर 2013 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

म्हारी धर्मपत्नी नै हवाई जहाज मैं,
चढणै गो मिल्यो पैली बारी चांस।
बण सुण राख्यो हो, कि ऊपरूं देख्यां,
कीड़ीयां बरगा दीसै, नीचला मानस।
चढतां ही बोली, देखो रै देखो,
कीड़ीयां बरगा दीसैं
बापड़ा नीचला लोग-लुगाई।
एयर होस्टेस हंस'र बोली,
अै वास्तव मैं ईं कीड़ीयां हैं,
अजे जहाज,
उड्डयो कोनी ताई।