भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ज़ख्म भरने दे / उर्मिल सत्यभूषण

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ज़ख्म भरने दे
ज़रा ये ज़ख्म भरने दे।
बधनखों ने दे दिये
हैं ज़ख्म जो गहरे
आज अपनी सोच
पर फिर दर्द के पहरे
ज़रा यह दर्द थमने दे!
सुलगते हैं सवाल
भीतर घुटन है भारी
फूटने को ज्वाल
अन्दर युद्ध है जारी
ज़रा ये पाँव जमने दे
रूक गये तो क्या
मगर हारे नहीं हैं हम
इन्कलाबी गीत है
नारे नहीं हैं हम
ज़रा फिर से संभलने दे।