भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ज़िन्दगी ठहरी हुई नदी है / गीताश्री

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 02:53, 25 जुलाई 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=गीताश्री |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatKavita}...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जिन्दगी ठहरी हुई नदी है
जिसकी देह में कौंध रही है अनगिन बिजलियाँ
उसके माथे पर इतने शिकन कि लकीरे गिनने का काम छोड़ कर
बैठ गई हूँ एक छोर पर
छिन गए हैं हाथ से सारे कंकड़-पत्थर
हथेलियों की आग सेरा गई है
पानी की सतह पर झुकी हुई झाड़ियो की पत्तियाँ और टहनियाँ
मेरी शिराओ सी फैल रही हैं नदी की देह मे
थोड़ी देर में मैं सब छोड़ कर उठ जाऊँगी यहाँ से
अब मेरे लिए यहाँ कोई काम नहीं बचा
सब कर रहे हैं अपने हिस्से का काम
नदी धँस रही है अपने भीतर
पत्थर खोज रहे हैं अपनी आग
बिजलियों को चाहिए कोई आकाश
टहनियों को चाहिए पानी की देह
सबको चाहिए अपनी जगह
पृथ्वी के सबसे बेकार हिस्से की खोज में
मैं भी लग गई हूं काम में
मुझे मिल नहीं रही वो जगह
जिसे उठा सकूँ शहर के छोर पर रखे समय के कूड़ेदान से