Last modified on 22 जून 2012, at 03:52

ज़ेनिया एक-8 / एयूजेनिओ मोंताले

अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 03:52, 22 जून 2012 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKAnooditRachna |रचनाकार=एयूजेनिओ मोंताले |संग्रह= }} {{KKCatKavit...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: एयूजेनिओ मोंताले  » ज़ेनिया एक-8

तुम्हारा इस क़दर रुक-रुककर,
भदेस लहज़े में बोलना—
ख़ुद को तसल्ली देने को
फ़क़त यही बच रहा है मेरे पास ।

लेकिन
लहज़ा बदल गया है
और रंगत भी ।

आदी हो जाऊँगा
तुम्हें सुनते रहने का,
तुम्हारे गूढ़ार्थ खोलने का—

टेली-टाइप की क्लिक-क्लैक में,
ब्रिसागो सिगारों से फूटते
धुएँ के कुंडलीचक्रों में ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : सुरेश सलिल