भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ज़्यादा दिन मत नेह लगाना / हरिवंश राय बच्चन / विलियम बटलर येट्स

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 22:44, 19 अप्रैल 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=विलियम बटलर येट्स |अनुवादक=हरिवं...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

प्राण-प्रियतमे, ज़्यादा दिन मत नेह लगाना,
ज़्यादा दिन तक नेह लगाकर मैंने सीखा है पछताना,
मैं ऐसा बे-फ़ैशन का माना जाता हूँ
जैसे कोई गीत पुराना ।

एक इस तरह थे हम यौवन के वर्षों में —
हाय, कहाँ वह गया ज़माना —
क्या उसके मन, क्या मेरे मन,
इसे असम्भव था अलगाना ।

लेकिन पल में बदल गई वह —
ज़्यादा दिन मत नेह लगाना,
वरना तुम भी हो जाओगे बे-फ़ैशन के,
जैसे कोई गीत पुराना ।

मूल अँग्रेज़ी से हरिवंश राय बच्चन द्वारा अनूदित

लीजिए अब पढ़िए यही कविता मूल अँग्रेज़ी में
        William Butler Yeats
    O Do Not Love Too Long
                    
SWEETHEART, do not love too long:
I loved long and long,
And grew to be out of fashion
Like an old song.

All through the years of our youth
Neither could have known
Their own thought from the other's,
We were so much at one.

But O, in a minute she changed —
O do not love too long,
Or you will grow out of fashion
Like an old song.