भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जां सुलगती है--ग़ज़ल / मनोज श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
Dr. Manoj Srivastav (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:20, 17 सितम्बर 2010 का अवतरण

यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


जां सुलगता है--ग़ज़ल

रात भर शमां से गुल हटाए रखिए
वहमे-सुबह का ख्याल बनाए रखिए

जां सुलगता है लफ़्ज़ों की कामयाबी पर
लफ्ज़ हवाओं की तरह बहाए रखिए

खुदकुशी से पहले आग बार-बार परखिए
हर धुएं का सैलाब आग नहीं, वहम भगाए रखिए

यार, पैसे ना उड़ा इन फ़िज़ूल साँसों पर
वात महंगे हुए, आह भी थामे रखिए