भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जानते तो हो / कृष्णा वर्मा

Kavita Kosh से
वीरबाला (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 04:41, 29 जुलाई 2019 का अवतरण (' जानते तो हो नहीं पसंद मुझे सवार होना पाल लगी नाव म...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज



जानते तो हो नहीं पसंद मुझे सवार होना पाल लगी नाव में, गवारा नहीं मुझे हवा की मर्ज़ी मान चलना झेलूँ आवारगियाँ मैं क्यों उसकी भरोसेमंद हुईं कब हवाएँ बदलकर रुख़ गिरा दें पाल छोड़ दे कहीं कश्ती वो मझधार जानती हूँ-तुम ना थामोगे पतवार।

</poem>