भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जाने क्या एक कोमल चीज़ / समीर बरन नन्दी

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 04:56, 1 जनवरी 2012 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=समीर बरन नन्दी |संग्रह= }} {{KKCatKavita‎}} <poem> ...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पूरब-पश्चिम
जिधर देखो सूरज वलय
गोल ही रहता है

उसकी लालिमा
मुझे भाती है
उत्तर रहूँ या दक्षिण

घर रहूँ या बाहर
जाने क्या एक कोमल चीज़ है मेरे पास
जो उससे लुकाता फिरता हूँ

कुछ उजाले भी है
मेरे पास उसके लिए
नहीं जानता वह सुबह है या शाम

सभी, सब कुछ नहीं दे सकते
तुम कविता में—
उजास दो !