भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"जाने न कोई / रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
पंक्ति 25: पंक्ति 25:
 
चारों तरफ
 
चारों तरफ
 
है घनेरा जंगल
 
है घनेरा जंगल
कहाँ हो तुम।
+
कहाँ हो तुम!
 
106
 
106
 
प्यास बुझेगी
 
प्यास बुझेगी
 
मरुथल में कैसे
 
मरुथल में कैसे
साथ न तुम।
+
साथ न तुम!
 
107
 
107
 
अँजुरी भर
 
अँजुरी भर
 
पिलादो प्रेमजल
 
पिलादो प्रेमजल
प्राण कण्ठ में।
+
प्राण कण्ठ में!
 
108
 
108
 
शब्दों से परे
 
शब्दों से परे
पंक्ति 39: पंक्ति 39:
 
पुकारूँ कैसे !
 
पुकारूँ कैसे !
 
109
 
109
भूलूँ कैसे मैं
+
'''भूलूँ कैसे मैं
 
तेरा वो सम्मोहन
 
तेरा वो सम्मोहन
कसे बन्धन।
+
कसे बन्धन।'''
 
110
 
110
 
तन माटी का
 
तन माटी का
पंक्ति 50: पंक्ति 50:
 
अरसा हुआ देखे
 
अरसा हुआ देखे
 
छिना है चैन।
 
छिना है चैन।
 +
112
 +
देह नश्वर
 +
देही, प्रेम अमर
 +
मिलेंगे दोनों।
 +
  
 
-0-
 
-0-
  
 
<poem>
 
<poem>

21:55, 5 मई 2019 का अवतरण

101
बिछुड़े कैसे
सिंधु से जलधारा
प्यार अपार।
102
जाने न कोई
कथाएँ जो लिखी थीं
अश्रु -डुबोई।
103
गोद है भीगी
प्रलय बन बहे
आँसू बावरे।
104
घिरा आग में
व्याकुल हिरना -सा
खोजूँ तुमको।
105
चारों तरफ
है घनेरा जंगल
कहाँ हो तुम!
106
प्यास बुझेगी
मरुथल में कैसे
साथ न तुम!
107
अँजुरी भर
पिलादो प्रेमजल
प्राण कण्ठ में!
108
शब्दों से परे
सारे ही सम्बोधन
पुकारूँ कैसे !
109
भूलूँ कैसे मैं
तेरा वो सम्मोहन
कसे बन्धन।
110
तन माटी का
मन का क्या उपाय
मन में तुम।
111
तरसे नैन
अरसा हुआ देखे
छिना है चैन।
112
देह नश्वर
देही, प्रेम अमर
मिलेंगे दोनों।


-0-