भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

जा, जर्जरित भारत, जा ! आ, नवभारत, तू आ ! / सुब्रह्मण्यम भारती

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 23:16, 18 मार्च 2021 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ओ दुर्बल कन्धोंवाले, भारत !
                     जा जा जा, जा तू भाग !
ओ दबे हुए सीनेवाले, भारत !
                     जा जा जा, जा तू भाग !
ओ तेजहीन मुखवाले, भारत !
                     जा जा जा, जा तू भाग !
ओ निष्प्रभ आँखोंवाले, भारत !
                     जा जा जा, जा तू भाग !
ओ कातर, दीन-हीन वाणी वाले
                     जा जा जा, जा तू भाग !
ओ कान्तिहीन तनवाले भारत !
                     जा जा जा, जा तू भाग !
ओ भयभीत दिलवाले, भारत !
                     जा जा जा, जा तू भाग !
ओ ओछी-छूछी हरकतों वाले, भारत !
                     जा जा जा, जा तू भाग !

आ आ आ, आ तू आ !
                     कान्तियुक्त आँखों वाले भारत आ !
आ आ आ, आ तू आ !
                     दृढ़ संकल्पोंवाले भारत आ !
आ आ आ, आ तू आ !
                     मनमोहक वाणीवाले भारत आ !
आ आ आ, आ तू आ  !
                     ताक़तवर कन्धोंवाले भारत आ !
आ आ आ, आ तू आ  !
                     निर्मल मति-गति वाले भारत आ !
आ आ आ, आ तू आ  !
                     ओछेपन को देख खौलनेवाले भारत आ !
आ आ आ, आ तू आ  !
                     दीनों के दुख में रोनेवाले भारत आ !
आ आ आ, आ तू आ  !
                     वृषभ शान से चलनेवाले भारत आ !

आ आ आ, आ तू आ  !
फिर कहीं नहीं जा
यहीं रह जा !

मूल तमिल से अनुवाद (कृष्णा की सहायता से) : अनिल जनविजय