भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जिन्दगी भेट्ने ठेगाना पायौ ? / राजेश्वर रेग्मी

Kavita Kosh से
Sirjanbindu (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 09:14, 16 जुलाई 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=राजेश्वर रेग्मी |अनुवादक= |संग्र...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज



जिन्दगी भेट्ने ठेगाना पायौ ?
सहरबाट हिंड्ने रमाना पायौ ?

दशौं दिनसम्म भोकभोकै बसेर
बल्ल एक दिनको खाना पायौ !

एक्लो त शायद परेनौ होला
साथमा दुई, चार– एक जाना पायौ

भीडमा भो, कैदी बाँच्तिनँ भन्थ्यो
भागको त्यो चुहुने छाना पायौ

कहिले त हार, जीत भै दिन्छ
चित्त बुझाउने बाहना पायौ