भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जिन चरणन चित लागा मोरा / उर्मिल सत्यभूषण

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ५ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 00:23, 21 अक्टूबर 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=उर्मिल सत्यभूषण |अनुवादक= |संग्रह...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जिन चरणन चित्त लागा मोरा
दिल का हीरा माँगा मोरा
चुन-चुन कलियाँ माला में गूंथे
दीठ का सुई धागा मोरा
ललकी लहरें चंदा छूने
सोया सागर जागा मोरा
किसके हाथ संदेशा भेजूं
उड़-उड़ जाये कागा मोरा
उसकी लगन में ऐसी खोई
इच्छा मृग कित भागा मोरा
अनहद घुन पर रीझत नाचत
प्रेम सुधा उर पागा मोरा