भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जीत नहीं किसको प्यारी है / गोपाल कृष्ण शर्मा 'मृदुल'

Kavita Kosh से
Rahul Shivay (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 12:33, 8 जुलाई 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=गोपाल कृष्ण शर्मा 'मृदुल' |अनुवाद...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जीत नहीं किसको प्यारी है?
कोशिश से इसकी यारी है।।

श्रम के चरण सफलता चूमे,
श्रम से किस्मत भी हारी है।।

जिसने खुद को हरदम जीता,
सच्चे सुख का अधिकारी है।।

उसका जीना ही है जीना,
जिसमें बाकी खुद्दारी है।।

सब शासन पर ही मत छोड़ो,
खुद की भी जिम्मेदारी है।।

पौरुष होता जहाँ उपस्थित,
वहाँ न टिकती लाचारी है।।

अवसर पर ‘चौहान न चूको’,
अवसर की महिमा न्यारी है।।