भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

जीवन का झरना / आरसी प्रसाद सिंह

Kavita Kosh से
त्रिपुरारि कुमार शर्मा (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 19:01, 6 नवम्बर 2009 का अवतरण (नया पृष्ठ: '''रचनाकार : आरसी प्रसाद सिंह''' जीवन क्या है निर्झर है मस्ती ही इसक…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रचनाकार : आरसी प्रसाद सिंह


जीवन क्या है निर्झर है

मस्ती ही इसका पानी है

सुख दुख के दोनों तीरों से

चल रहा राह मनमानी है