भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"जुड़ा-जुड़ा-सा है / गौरव गिरिजा शुक्ला" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=गौरव गिरिजा शुक्ला |अनुवादक= |संग...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

15:13, 11 अक्टूबर 2019 के समय का अवतरण

आग बुझ गई है मगर कुछ धुआँ-धुआँ सा है,
होकर जुदा मुझसे तू कुछ जुड़ा-जुड़ा सा है।

मुस्कराहट ओढ़ कर ग़म छुपाने की लाख कोशिश करो,
आँखें बता रही हैं तू कुछ बुझा-बुझा सा है।

अपने लबों से तुमने कोई शिकायत न की मगर,
तेरे अंदाज़ ने कह दिया तू कुछ ख़फ़ा-ख़फ़ा सा है।

तू चला गया मगर तेरा ख़याल है कि जाता नहीं,
नफ़रत है या मोहब्बत कुछ बचा-कुचा सा है।

इस क़दर रोये हैं कि अब आंसू ही सूख गए,
पलकों में अब मौसम कुछ सूखा-सूखा सा है।

चाहता तो हूँ कि कोई मुस्कुराता तराना लिख दूँ,
मगर मेरा वजूद ही अश्क में कुछ डूबा डूबा सा है।