भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जोकर आया / प्रकाश मनु

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:45, 16 फ़रवरी 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=प्रकाश मनु |अनुवादक= |संग्रह=बच्च...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जोकर आया, जोकर आया,
उछल-कूदता जोकर आया।
पहन के टोपी, जोकर आया,
देखो गोपी, जोकर आया।

उछल बाँस पर चढ़ जाएगा,
हाथ छोड़कर लहराएगा।
दाँत दिखाकर, हाथ नचाकर
अभी कलामुंडी खाएगा।

सिर के बल यह चल सकता है,
आग हाथ पर मल सकता है।
जलती हुई आग की लपटें,
उछल, पार करता यह झट से।

अगले पल फिर हल्ला-गुल्ला,
गाल फुलाता ज्यों रसगुल्ला।
ढीला-ढाला खूब पजामा,
लगता है यह सचमुच गामा।

अभी हवा में उड़ जाएगा,
फिर जब धरती पर आएगा,
गाल बनेंगे तब गुब्बारा,
हँसी-खुशी का ज्यों फव्वारा।
हँस देगी तब सारी दुनिया,
जैसे छूँ पड़ीं फुलझड़ियाँ।