भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जो चेत रहा सो जीत गया / उर्मिल सत्यभूषण

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ५ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 23:54, 20 अक्टूबर 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=उर्मिल सत्यभूषण |अनुवादक= |संग्रह...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जो बीत गया सो बीत गया
तू उसकी सुध बिसरा पगले।
उठ गा भविष्य का गीत नया
जो चला गया वो था सपना
जो आने वाला है अपना
बीते अवसर पर रोना क्या
आने वाला कल खोना क्या
जो खोया सुधि में, हार गया
जो चेत रहा सो जीत गया
तू नयन न कर गीले गाले
सुधियों के बंधन कर ढीले
प्रेरक स्फुलिंग मगर चुन ले
खाली जीवन घट फिर भर ले
जो भरा हुआ था रीत गया।