भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

जो जीवन की धूल चाट कर बड़ा हुआ है/केदारनाथ अग्रवाल