भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जौ लों जग में राम जियावैं / ईसुरी

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 17:19, 1 अप्रैल 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |भाषा=बुन्देली |रचनाकार=ईसुरी |संग्रह= }} {{KKC...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जौ लों जग में राम जियावैं।
जे बातें बरकावै।
हात पाँव दृग-दाँत बतीसउ
सदा एक से राबैं।
ना रिन ग्रेही करै काऊ खाँ
ना घर बनौ मिटावै।
आपुस की बनी नइँ बिगरै
कुलै दाग ना आवै।
इतने में कुछ होय ईसुरी
बिना मौत मर जावै।