Last modified on 26 मई 2017, at 15:27

ज्ञान प्रकाश अर्थात शिक्षाप्रद दोहे कुंडलियाँ / मुंशी रहमान खान

Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 15:27, 26 मई 2017 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

दोहा

सुंदर शिक्षा ज्ञानहित रच्‍यो ज्ञान प्रकाश।
पढ़ि है बालक युवक वृद्ध होय तिमिर का नाश।। 1

तिमिन नाश भए ज्ञान हो ज्ञान से धर्महिं प्रीति।
धर्म प्रीति में ईश है यह सद्ग्रंथन नीति।। 2


निवेदन

लिखत में सब से होत है, भूल ग्रंथ के माहिं।
सज्‍जन पढ़त सुधार तेहि दोष न देवहिं ताहिं।। 3

यासे मैं बिनती करहुँ शीश नवहुँ बहु बार।।
होवै ग्रंथ में भूल कहिं लेवैं सुजन सुधार।। 4