भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ज्योतिक आराधक बदनाम पूरा / धीरेन्द्र

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ३ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 03:09, 23 मई 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=धीरेन्द्र |संग्रह=करूणा भरल ई गीत...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ज्योतिक आराधक बदनाम पूरा,
अन्हारक ने सपना कहियो देखल हम।
साँचोमे आँचे यछि अछि बुझाइत,
सहन सभ करब हम उत्ताप आगिक।
मुदा ने मिझाबी ई ज्योतिक शिखाकें
अनावृत सत्यकेर हम रहलहुँ उपासकं
पाकी वा झरकी वा खाके बनी हम,
आस्था हमर बस रहओ संग हमर।
रहऽ बस दियऽ ई उपदेश सभटा
ढाहू ई ढिमका जमल अछि जे रूढ़िक।
निर्बन्ध होअओ ग्रन्थिकेर ई जे बन्धन
बनओ मुक्त मानस पवनवत बनओ ई।
चलू जा मरी संग, यदिउएह अछि अपेक्षित,
देखओ ई दुनियाँ, ने असगर छलहुँ हम।