भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ज्योत्स्ना में / जगन्नाथप्रसाद 'मिलिंद'

Kavita Kosh से
Dkspoet (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 17:56, 23 दिसम्बर 2011 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=जगन्नाथप्रसाद 'मिलिंद' |संग्रह=जीव...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अर्धचंद्र के रजत-कटोरे से रजनी का रस कर पान,
झूम उठें निस्सीम गगन में मेरी रूप-तृषा के प्राण।
धीरे-धीरे खोले ज्यों-ज्यों कलिका-सी ज्योत्स्ना लोचन,
मधुमय, मुग्ध, अलस पलकों-सा झुके चेतना का यौवन।
विस्मित जग की भाषा जिनको ‘तारक’ कह, रह गई अचल,
उस अपूर्व सौंदर्य-सुधा के छीटों से मधुमय, उज्ज्वल।
यह नीलांबर, बने विहग-से मेरे उर का नीड़ उदार,
चपल कल्पना के पंखों का क्षितिज-विचुंबी क्रीड़ागार।
सुंदरता को छोड़, शून्य में है न अन्य अनुभव का नाम;
पायँ उसी के मधुर अंक में मेरे सुख-दुख चिर विश्राम,
जीवन की खोई कविता का जहाँ हृदय को मिले निशान,
जग के ठुकराए भावों को मिले साँस लेने को स्थान।

अंतर का आनंद-सिंधु हो ऐसी लहरों से भरपूर,
जिनसे टकराकर क्षण में हों चिंता की चट्टानें चूर।