भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"झम्मम / प्रभुदयाल श्रीवास्तव" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=प्रभुदयाल श्रीवास्तव |अनुवादक= |स...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

19:10, 2 अगस्त 2020 के समय का अवतरण

गोलम-गोलम गोल मंटोला।
झम्मम हैं फ़ुटबाल का गोला।
डग्गम-डग्गम जब चलते हैं,
तो लगता है अभी गिरे।
लेकर लाठी चलती दादी।
गिरते झम्मम, उन्हें उठातीं।

अगर छींक भी आ जाती तो,
झम्मम भैया बहुत डरे।

लुडक-लुडक जाते हैं झम्मम।

न हो शायद पैरों में दम।
थक जातीं है दादीजी जब,
कहने लगतीं हरे हरे।
झम्मम कभी-कभी उठ जाते।
ठिल-ठिल ठिल कर हँसते जाते।
पारिजात के किसी दरख़्त से,
लगता जैसे फूल झरे।