भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

झरै है सुर... : एक / राजेश कुमार व्यास

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 11:54, 17 अक्टूबर 2013 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

(पं. षिवकुमार शर्मा रै संतुर नै सुणती थकै)

बैवै झरणौ
कळ-कळ
री आवाज साफ
सुणीजै
थौड़ी’क ताळ थमै
अर
फेरूं बैवै
कळ-कळ-कळ...
बुलबुला बणावै पाणी रा
हंसे, खिलखिलावै
गावै कोई गीत
घाटी रै सुनपण मांय
हरै
अेकलोपण।
झरणै रै झरण सूं
भिगिज जावै मन
झरै पाणी रै सागै
घणकरा सोवणा अर
मन मोवणा सुर
सा रे ग म प ध नि सा
सा नि ध प म ग रे सा...।