भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

टीले के वक्ष पर / मिख़ाइल लेरमन्तफ़ / मदनलाल मधु

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 17:32, 10 सितम्बर 2018 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=मिख़ाइल लेरमन्तफ़ |अनुवादक=मदनल...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बहुत बड़े टीले की चौड़ी छाती पर
एक सुनहरी बदली ने दी रात बिता,
सुबह-सवेरे उठ अपने पथ पर चल दी
गगन-नीलिमा में मुस्काई, दिखा अदा।

पर बूढ़े टीले की गहरी झुर्री पर
चिह्न नमी का छोड़ा, लुप्त नहीं होता,
डूब सोच में, मरुथल में वह एकाकी
खड़ा हुआ है, अब धीरे-धीरे रोता।

1841
मूल रूसी से अनुवाद : मदनलाल मधु

और अब यह कविता मूल रूसी भाषा में पढ़ें

                    УТЕС
Ночевала тучка золотая
На груди утеса-великана;
Утром в путь она умчалась рано,
По лазури весело играя;

Но остался влажный след в морщине
Старого утеса. Одиноко
Он стоит, задумался глубоко
И тихонько плачет он в пустыне.

1841