भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

टूटने पर / रित्सुको कवाबाता

Kavita Kosh से
Firstbot (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 17:42, 7 सितम्बर 2010 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKAnooditRachna |रचनाकार=रित्सुको कवाबाता }} Category:जापानी भाषा <poem> फटाक ! …)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: रित्सुको कवाबाता  » टूटने पर

फटाक !
मेरी प्रिय कांच की चायदानी
प्योनी और हरे पत्तों के साथ
टूटी पड़ी है !
मात्र एक दंपत्ति के मतलब की
पुरानी यादें गत दस वर्षों की
आनंद लिया हर दिन इसकी खूब्सूरती का
थामे इसे अपने हाथों में,
दुःख है इसके खोने का .
ऐसी बढ़िया चायदानी
नहीं मिलेगी फिर ,
लेकिन खोजनी पड़ेगी नई,
टूटना किसी चीज़ का बुरा नहीं है इतना
यह अवसर है
नए के आने का !

अनुवादक: मंजुला सक्सेना