भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

टोकणी पीतल की कुआं का रे जल भर लाई / हरियाणवी

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:09, 17 जुलाई 2014 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |भाषा=हरियाणवी |रचनाकार=अज्ञात |संग्रह= }} {{...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

टोकणी पीतल की कुआं का रे जल भर लाई
छेल मनै तरवा दे रंडवे की नजर ने खाई
नार तोहे बरजै मत घालै सुरमा स्याही
बैंत तोहे मारूं दगड़े में हंसती आई
मेरो कोई दोष नहीं वहां ठाडी चार लुगाई
जेठ मेरो न्यूं बोल्यो रे क्यों मारै छेल कसाई
देवर मेरो न्यूं बोल्यो या कि निकलन दे गुमराही
ननद मेरी न्यूं बोली या बिगडद्ये घर की आई
देवरानी मेरी न्यूं बोली तेरे तड़के ल्याऊं सगाई
पड़ौसिन मेरी न्यूं बोली मैं खुद ल्या दूं मां जाई
जेठाणी मेरी न्यूं बोली मुट्ठी में धरी लुगाई