भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ठाकुरजी / हरि शंकर आचार्य

Kavita Kosh से
Neeraj Daiya (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 21:51, 23 जनवरी 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=हरि शंकर आचार्य |संग्रह= मंडाण / नी...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ओ साच है
कै तूं
हां, तूं ही तो है,
कण मांय अर मण मांय।
दसूं दिसावां
आठूं पौर
तूं है सुलभ
अर सगतीमान।
जद ही तो होय जावै
थारा दरसण सोरै-सांस।
मिल जावै
माथो टेकतो
हर चौरायै अर मोड़ माथै
माचिस री बिना तील्यां री
डब्बी सूं लेय’र
खैणी रै रद्दी कागद तांई।