भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ठीक वैसा ही / दीपिका केशरी

Kavita Kosh से
Anupama Pathak (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:57, 13 अक्टूबर 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=दीपिका केशरी |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KK...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कविताएं पढ़ना ये ठीक वैसा ही है
जैसा कि रसोइ में माँ का कोई नया फिल्मी गीत गुनगुना
ठीक वैसा ही जैसा कि
सारे खर्चो के बावजूद
पिता का अपने वेतन में से कुछ पैसे बचाकर
अपने बच्चों के लिए जमा करना
ठीक वैसा ही जैसा कि
सोलह के बाद भाई की उम्र साल नहीं दिन के हिसाब से बढ़ना
ठीक वैसा ही जैसा कि
बहन के स्पर्श में माँ का स्पर्श ठहर जाना
ठीक वैसा ही जैसा कि
प्रेमी का बिन ब्याहे पति हो जाना
कविताएं पढ़ना ठीक वैसा ही तो है
जैसा कि
एक औरत का पूरी उम्र एक ख्वाब पाले रखना कि
एक दिन उसका पति उसका प्रेमी बन जाएगा  !