भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"डर पैदा करने की कला / अखिलेश्वर पांडेय" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अखिलेश्वर पांडेय |अनुवादक= |संग्र...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
 
पंक्ति 6: पंक्ति 6:
 
}}
 
}}
 
{{KKCatKavita}}
 
{{KKCatKavita}}
 +
{{KKVID|v=Az5SjIQ2io0}}
 
<poem>
 
<poem>
 
बड़ी-बड़ी रोबदार मूंछे
 
बड़ी-बड़ी रोबदार मूंछे

23:09, 2 अगस्त 2020 के समय का अवतरण

यदि इस वीडियो के साथ कोई समस्या है तो
कृपया kavitakosh AT gmail.com पर सूचना दें

बड़ी-बड़ी रोबदार मूंछे
बेतरतीब बिखरे उलझे बाल
विचित्र वेशभूषा
भयानक भाव-भंगिमाएं
गजब की हरकतें
डरावनी आवाज
दूसरों को डराने के लिए
कुछ लोग क्या-क्या नहीं करते
इससे परे
कुछ कलाबाज ऐसे हैं-
जिनके 'भाइयों-बहनों' कहते ही
डर जाता है पूरा देश!