भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ढप सौ ढाल सरीसौ चइये / ईसुरी

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 17:20, 1 अप्रैल 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |भाषा=बुन्देली |रचनाकार=ईसुरी |संग्रह= }} {{KKC...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ढप सौ ढाल सरीसौ चइये।
मित औईसौं कइये।
सुखमें रयै पछारँ भारी।
दुख में ऑगू रइये।
सबई अनी के अस्त्र बचावैं
तऊ स्वारथ ना कइये।
काम देय मौका पै ईसुर
आजावै जाँ चइये।