भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"ढह गया दिन / अंकित काव्यांश" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अंकित काव्यांश |अनुवादक= |संग्रह= }...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
पंक्ति 15: पंक्ति 15:
 
चांदनी का महल  
 
चांदनी का महल  
 
हिलता दीखता है
 
हिलता दीखता है
चाँद रोता इस कदर बुनियाद में।
+
चाँद रोता इस क़दर बुनियाद में।
  
 
कल मिलेंगे आज खोकर कह गया दिन।
 
कल मिलेंगे आज खोकर कह गया दिन।

23:30, 2 अगस्त 2020 का अवतरण

ढ़ल गयी फिर शाम देखो ढह गया दिन

भूल जाती है सुबह,
सुबह निकलकर
और दिन दिनभर पिघलता याद में।
चांदनी का महल
हिलता दीखता है
चाँद रोता इस क़दर बुनियाद में।

कल मिलेंगे आज खोकर कह गया दिन।
ढ़ल गयी फिर शाम देखो ढह गया दिन।

रोज अनगिन स्वप्न,
अनगिन रास्तों पर,
कौन किसका कौन किसका क्या पता?
हाँ मगर दिन के लिए,
दिन के सहारे,
रात दिन होते दिखे हैं लापता।

एक मंजिल की तरह ही रह गया दिन।
ढ़ल गयी फिर शाम देखो ढह गया दिन।

दूर वह जो रेत का तट
है खिसकता
देखना मिल जाएगा एक दिन नदी में।
नाव मिट्टी की लिए
इतरा रहे जो
दर्ज होना चाहते हैं सब सदी में।

किन्तु घुलना एक दिन कह बह गया दिन।
ढ़ल गयी फिर शाम देखो ढ़ह गया दिन।