Last modified on 11 फ़रवरी 2011, at 17:57

ढूँढ़ रहे हम पीतलनगरी / योगेन्द्र वर्मा ‘व्योम’

अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 17:57, 11 फ़रवरी 2011 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=योगेन्द्र वर्मा ‘व्योम’ }} {{KKCatNavgeet}} <poem> ढूँढ़ रहे ह…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

ढूँढ़ रहे हम पीतलनगरी
महानगर के बीच !

यहाँ तरक्की की परिभाषा
यातायात सघन
और अतिक्रमण, अख़बारों में
जैसे विज्ञापन

नहीं सुरक्षित कोई भी अब
यहाँ सफ़र के बीच !

हर दिन दूना, रात चौगुना
शहर हुआ बढ़कर
और प्रदूषण बनकर फ़ैला
कालोनी कल्चर

कहीं खो गया लगता अपना
घर नंबर के बीच !

ख्याति यहा~म की दूर-दूर तक
बेशक फैली है
किंतु रामगंगा भी अपनी
बेहद मैली है

कोशिश भी कुछ नहीं दीखती
किसी ख़बर के बीच !