भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तकदीरां री बातां अै / अशोक जोशी 'क्रान्त'

Kavita Kosh से
आशिष पुरोहित (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 21:46, 27 जून 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अशोक जोशी 'क्रान्त' |अनुवादक= |संग्...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तकदीरां री बातां अै
बिण साजण री रातां अै।

वांरै आंगण रोज बिलोणौ
इण घर फगत परातां अै।

सुपना देखा सोनल रा
बस ओळूं री ख्यातां अै।

कीकर जीव पतीजैला
न्यारी-न्यारी न्यातां अै।

सोच-समझ नै पग धरजै
धोळै दिन री घातां अै।

म्हैल घणा ई चौखा है
चूवै घर री छातां अै।