भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तन्हाई से जब उकता के बैठ गया / विजय राही

Kavita Kosh से
Abhishek Amber (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 12:28, 25 मार्च 2020 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=विजय राही |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatGhazal...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तन्हाई से जब उकताके बैठ गया ।
मैं फिर मयखानें में आके बैठ गया ।

पत्थर को पत्थर ही अच्छे लगते हैं,
सो अपने तबके में जाके बैठ गया ।

आज गली से मैंने देखा था उसको,
चंदा छत पर ही शरमाके बैठ गया ।

दो घंटे तक बात नही की जब उसने,
क्या करता मैं ,मुँह लटकाके बैठ गया ।

शाम ढली तो हम भी अपने घर आये,
साया पास हमारे आके बैठ गया ।

लोगों ने पूछा जब उसके बारे में,
'राही' अपनी नज़्म सुनाके बैठ गया ।