भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तन कौ तनक भरोसौ नइयाँ / ईसुरी

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:59, 1 अप्रैल 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |भाषा=बुन्देली |रचनाकार=ईसुरी |संग्रह= }} {{KKC...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तन कौ तनक भरोसौ नइयाँ,
राखैं लाज गुसईयाँ,
उड़ उड़ पात गिरत धरनी मैं,
फिर नई लगत डरईयाँ
जर बर देय भसम हो जै हैं।
फिरना चुनैं चिरइयाँ,
मानुस चाम काम न आवै।
पसु कीं बनत पनईयाँ,
ईसुर कोऊ हाँत ना दै ले
जब हम पकरैं बइयाँ।