भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"तब-ए-हस्सास मिरी ख़ार हुई जाती है / अब्दुल अहद 'साज़'" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अब्दुल अहद 'साज़' |अनुवादक= |संग्रह...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

16:22, 24 मार्च 2020 के समय का अवतरण

तब-ए-हस्सास मिरी ख़ार हुई जाती है
बे-हिसी इशरत-ए-किरदार हुई जाती है

ये ख़मोशी ये घुलावट ये बिछड़ते हुए रंग
शाम इक दर्द भरा प्यार हुई जाती है

और बारीक किए जाता हूँ मैं मू-ए-क़लम
तेज़-तर सोज़न-ए-इज़हार हुई जाती है

कुछ तो सच बोल कि दिल से ये गिराँ बोझ हटे
ज़िन्दगी झूट का तूमार हुई जाती है

जादा-ए-फ़न से गुज़रना भी कशाकश है तमाम
राह ख़ुद राह की दीवार हुई जाती है

सोच की धूप में जल उठने को जी चाहता है
अपने लफ़्ज़ों से भी अब आर हुई जाती है

ज़ीस्त यूँ शाम के लम्हों से गुज़रती है कभी
ख़ुद-ब-ख़ुद शरह-ए-ग़म-ए-यार हुई जाती है

कम से कम फूँक ही दे बुझती हुई राख में 'साज़'
आख़िरी साँस भी बेकार हुई जाती है