भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुम्हारे होने पर / ज्ञान प्रकाश चौबे

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 17:49, 21 जून 2011 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=ज्ञान प्रकाश चौबे |संग्रह= }} {{KKCatKavita}} <Poem> एक टुकड़ी ध…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक टुकड़ी धूप
जो मेरे छत पर
इस कोने से उस कोने तक
अलसाई-सी पसरी है

और वो हवा का झोंका
जो अचानक
दरवाज़े से आके चुपके से
खिड़की से निकल जाता है

और कमरे में फैली
तुम्हारी देह की गंध
जो शायद तुम छोड़ गई थी

और कुछ सपने भी
जो लिपटे-चिपटे पड़े हैं
मेरे चारपाई के पाँवों से
दुबके-छुपके हैं
मेरे तकिए के नीचे

और भी बहुत कुछ
वैसा ही है
जैसा वर्षों पहले था तुम्हारे होने पर