भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुम-2 / नील कमल

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 14:56, 6 जून 2011 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरी नींद
फ़सल और भूख के बीच
समीकरण तय करती है

सपने लंबी करते हैं
चाहत की उम्र

उम्र जो इन खेतों से बड़ी नहीं
ये खेत जो तुम्हारी देह से छोटे
क्यारियों में बँटने लगे हैं

देखो
क्यारियाँ नसों में बदलने लगी हैं ।