भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुम कब समझोगे, सहचर के अर्थ? / उर्मिल सत्यभूषण

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ५ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 23:29, 18 अक्टूबर 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=उर्मिल सत्यभूषण |अनुवादक= |संग्रह...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

विश्व को सह-अस्तित्व के
अर्थ समझाते हो
विश्व शांति के पाठ पढ़ाते हो
ओ साथी! अपने आसपास भी देखो
ओ पुरुष! स्वीकार करो सह अस्तित्व अपने घर में भी
सहचर बनकर घुलने दो
प्राणों में रिश्तों की गंध
सांसों को मिलने दो
लिखने दो प्यारे अनुबंध
नई आशाओं को उगने दो
गृहस्थी के गमले में। खिलने दो प्यार के फूलों को
कपोतों के जोड़ों को आने दो घर में
गुटरगूं करने दो। थोड़ा सा अहसास आज़ादी का होने दो।