भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"तुम जो मिले / कृष्णा वर्मा" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार= कृष्णा वर्मा |संग्रह= }} Category:हाइ...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
पंक्ति 8: पंक्ति 8:
  
  
 
+
1
 +
पत्तियाँ स्पंदी
 +
चाँदनी का कम्पन
 +
हरता मन।
 +
2
 +
अमर होती
 +
मर के घास बुने
 +
चिड़िया नीड़।
 +
3
 +
साहसी घास
 +
डाले न हथियार
 +
जमाए जड़ें।
 +
4
 +
कितना मरे
 +
हरी हो मुसकाए
 +
जीवट घास।
 +
5
 +
आँधी–तूफान
 +
ज़ब्त न कर पाएँ
 +
दूब– मुस्कान।
 +
6
 +
चर रहा है
 +
पल–पल मुझे क्यों
 +
अंजाना डर।
 +
7
 +
तुम जो मिले
 +
जगी हैं बेचैनियाँ
 +
कहो क्या करें!
 +
8
 +
मचली चाह
 +
कल्पना में पगी है
 +
प्यार की राह।
 +
8
 +
भीग गई मैं
 +
सावन की झड़ी-सी
 +
नेह तुम्हारा।
 +
10
 +
बातें तुम्हारी
 +
घोल गईं  साँसों में
 +
ललिता छंद।
 +
11
 +
जलाए मन
 +
सुधियों के अंगारे
 +
सिराए कौन।
 +
12
 +
अपनापन
 +
तनिक न खुशबू
 +
निरा छलावा।
 +
-0-
  
 
</poem>
 
</poem>

07:33, 17 मई 2019 का अवतरण



1
पत्तियाँ स्पंदी
चाँदनी का कम्पन
हरता मन।
2
अमर होती
मर के घास बुने
चिड़िया नीड़।
3
साहसी घास
डाले न हथियार
जमाए जड़ें।
4
कितना मरे
हरी हो मुसकाए
जीवट घास।
5
आँधी–तूफान
ज़ब्त न कर पाएँ
दूब– मुस्कान।
6
चर रहा है
पल–पल मुझे क्यों
अंजाना डर।
7
तुम जो मिले
जगी हैं बेचैनियाँ
कहो क्या करें!
8
मचली चाह
कल्पना में पगी है
प्यार की राह।
8
भीग गई मैं
सावन की झड़ी-सी
नेह तुम्हारा।
10
बातें तुम्हारी
घोल गईं साँसों में
ललिता छंद।
11
जलाए मन
सुधियों के अंगारे
सिराए कौन।
12
अपनापन
तनिक न खुशबू
निरा छलावा।
-0-