भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुम मेरा ही रूप हो / रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

न सिन्धु अँधियार भी , उमड़ रही जलधार।
मैं एकाकी कर गहो, छोड़ो मत मझधार।
91
तुझमें ही अटके हुए,मेरे पापी प्राण।
कभी छोड़ तुम चल दिए,मुझको मिले न त्राण।
92
दीप जलेगा प्रेम का, घनी रात या प्रात।
साँसें जब तक तन बसी,मैं हूँ तेरे साथ।।
93
नीरव कोने में बसा,कहता बारम्बार
आँसू पी लूँ नैन के,मैं हूँ तेरा प्यार।
94
फूलों पर तितली कभी, तनिक न होती भार।
लेकर चल दूँ मैं तुम्हें, ,सीमाओं के पार।
95
दर्द कभी मैं दूँ तुम्हें,तो मुझको धिक्कार।
तुम तो प्राणों में बसे ,बिछड़ो ना इस बार।
96
सुनकर वाणी आपकी,मन को मिला सुकून।
तुम ही मेरी आरज़ू, केवल तुम्हीं जुनून ॥
97
ईश्वर ने मुझको दिया,दुर्गम पथ पर साथ।
मुड़कर देखा तुम मिले ,पकड़े मेरा हाथ।।
98
रोम- रोम में गूँजता,गीत बना गुंजार।
जीवन के हर मोड़ पर,तुम्हीं प्यार का सार।
99
हरदम साँसें कह रहीं, तुम हो मन के पास।
तुम मेरा ही रूप हो,तुम मेरा विश्वास।
100
बन जाए जब जीभ ही, दोधारी तलवार।
ज़हर बिना मरते रहे, हम तो लाखों बार ॥
101
तन-मन सब आहत हुआ, रोज़ झेलते तीर ।
 मौन बनी जीवित रही, हरदम मन की पीर ॥
102
सोचा था कल भोर में,गूँजेंगे कुछ गान ।
नींद लूट तकरार ने , मन को किया मसान॥