भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुम सागर हो, मैं ज्वार तुम्हें दूंगा / केदारनाथ मिश्र ‘प्रभात’

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 07:24, 12 अगस्त 2014 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरे गीतों को सांझ चूमने आई
मैं देख रहा तरु-शिखरों की पियराई

बोलो, बोलो, इन आंखों से छलकोगे
तुम आतप हो, जलधार तुम्हें दूंगा

मझधार और दोनों तट हाथ हिलाते
वे नखत, अग्नि-जन, धुंधले दीप जलाते

नाविक बन जाओ, आओ, आओ, आओ
तुम प्लावन हो, पतवार तुम्हें दूंगा