भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तूफ़ानी जीवन सागर में / रामेश्वरलाल खंडेलवाल 'तरुण'

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 17:11, 12 अप्रैल 2018 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=रामेश्वरलाल खंडेलवाल 'तरुण' |अनुव...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तूफ़ानी जीवन-सागर में साथ-साथ तैरें प्रिय, हम-तुम!

देखो मुक्त प्रवाह, कि इसमें
भँवरों की कैसी क्रीड़ा है!
रासमयी लहरों की बंकिम
भौंहों में कैसी व्रीड़ा है!
तुम पट पर क्यों मौन खड़ी हो, प्राणप्रिये, होकर यों गुम-सुम!

है ही क्या संसार अरे, यहाँ
जबकि गुँथी हो तुम बाँहों में,
चरणों का संगीत जगाने-
सौ चट्टान खड़ीं, राहों में!
दिखलायेगा पंथ तुम्हारे चन्द्र-भाल का शोभित कुंकुम!

जग है यह भादों की रजनी,
प्रिय, तेरे केशों-सी सुन्दर!
पथ के कुश-कंटक तो हैं ये-
मृदु रोमांच हमारे तन पर!

तुम हो मेरी साँस और मैं उससे फूटा हुआ तरन्नुम!
काल-रेत पर ऊषा, सन्ध्या-से
हम मृदु पद-चिन्ह छोड़ते!
बढ़ते जायेंगे चिर तुम में
मन के कोमल तार जोड़ते!

शेष न कोई चाह, साथ हो जब तुम-हे मेरी कल्पद्रुम!

तूफानी जीवन-सागर में
साथ-साथ तैरें प्रिय, हम-तुम!